Matched Content Comment Leave a Reply. Monday, 30 Oct, 11.25 am उदाहरणार्थ- यहाँ हम किसी अ का शुभांक निकालते हैं। मान लीजिए अ का जन्म 11-2-1942 को हुआ। अतः दान देवीजी में नीले वस्त्र का चढावा चढ़ायें….
वर्ष 2018 मिथुन लोगों के लिए जीवन के लगभग सभी क्षेत्रों में उच्च ऊर्जा -levels की अवधि के लिए किया जाएगा। वहाँ एक पूरा सुधार या आप दोनों का नवीनीकरण, शारीरिक रूप से होगा
default: How Saturn Affects the 12 Zodiac Signs नौ ग्रहों में ये हैं पाप के ग्रह
msn लाइफस्टाइल यदि कभी भी पहले मनोदशा का पता लगाया जा सकता है, वास्तविक जीवन में एक शृंखला-पहने हुए पागल की हॉलीवुड छवि दुर्लभ है वास्तव में, यह बेहद कम संभावना नहीं है कि किसी मनोदशा एक सीरियल किलर बन जाए।
Asc ♏ 25°11’09” URL: https://www.youtube.com/watch%3Fv%3DpSuEROFSixM future for you astrological news panchang 29 02 20…
$(“#langEng”).addClass(“active”); वर का नामांक 7 होने पर कन्या अगर 1, 3, 6, नामांक की होती है तो पति पत्नी के बीच प्रेम और सहयोगात्मक सम्बन्ध होता है. कन्या अगर 5, 8 अथवा 9 नामंक की होती है तब वैवाहिक जीवन में थोड़ी बहुत परेशानियां आती है परंतु सब सामान्य रहता है. अन्य नामांक की कन्या होने पर पति पत्नी के बीच प्रेम और सहयोगात्मक सम्बन्ध नहीं रह पाता है. आठ नामांक का वर 5, 6 अथवा 7 नामांक की कन्या के साथ विवाह करता है तो दोनों सुखी होते हैं. 2अथवा 3नामांक की कन्या से विवाह करता है तो वैवाहिक जीवन सामान्य बना रहता है जबकि अन्य नामांक की कन्या से विवाह करता है तो परेशानी आती है . 9 नामांक के वर के लिए 1, 2, 3, 6 एवं 9 नामांक की कन्या उत्तम होती है जबकि 5 एवं 7 नामांक की कन्या सामान्य होती है . 9 नामांक के वर के लिए 4 और 8 नामांक की कन्या से विवाह करना अंकशास्त्र की दृष्टि से शुभ नही होता है .
जन्म कुंडली KP Astro Science Magazine
જ્યોતિષ માર્ગદર્શન ज्योतिष् मार्गदर्शन Astrology Guidance सामाजिक कार्यो में व्यस्तता…
बेहिचक! निःसंदेह! आप हमारे अनुभवी ज्योतिषी से बात करें, जो आपकी जन्मकुंडली का अध्ययन कर तुरंत आपके प्रश्नों का जवाब देंगे। बात करें
पूर्णिमा व्रत की सूची तिथि, समय एवं गुरू पूर्णिमा की विशेषता के साथ उपलब्ध है। प्रश्‍न कुण्‍डली : समय में छिपा सटीक फलादेश (Prashna Kundli) प्यार और रोमांस
Dear cjhain singh, होरोस्कोप MANGAL DOSH Copyright © 2018 Heraldspot.
If the city is Washington because there are too many Washington’s you can type also the state example:
सभी खुलासे एक ही जगह कैंसर कुंडली 2017 चाहे आपका लक्ष्य एक पेशेवर ज्योतिषी बनना है या बस अपने जन्म चार्ट को समझना है, ग्रहों, संकेतों और घरों को समझना ज्योतिषीय ज्ञान की जटिल गहराई का पर्दाफाश कर सकता है। अपने जन्म चार्ट के साथ बहुत समय बिताएं: इसमें प्लेसमेंट की व्याख्या करने की आपकी क्षमता को मजबूत किया जाएगा क्योंकि आप चार्ट को अपने दैनिक जीवन में लागू करते हैं। कथाएं बनाने और बोल्ड अवलोकन करने से डरो मत। आखिरकार, इस तरह सौर मंडल की खोज की गई।
5/ 10 कर्क – कुंभ अनुकूलता Got it यह उच्च मस्तिष्क जागृत करने का समय है घरेलू नुस्खे वायु राशि जन्म समय दिन 11:12 का है क्या? April 22, 2017 at 5:22 am
Travel 2018 संयोग से इस वर्ष उक्त सभी योग एकसाथ घटित हो रहे हैं। मंगल वृश्चिक राशि में 6 माह के समय तक शनि के साथ युति करेंगे। आगामी 9 मार्च को पडऩे वाले सूर्य ग्रहण की राशि कुम्भ पर मंगल की दृष्टि 5 महीनों तक रहेगी जो कि एक बड़े भूकंप और युद्ध का योग है। ज्योतिष के शास्त्रीय ग्रंथों के अनुसार निम्न ग्रह स्थितियों में बड़े भूकंप आ सकते हैं।
05 love कुम्भ D.o.b-12/11/1992 प्रत्येक व्यक्ति की कुंडली में नवम भाव को भाग्य भाव माना जाता है। इस भाव में जिस राशि का आधिपत्य होता है, उसके अनुसार भाग्योदय का वर्ष तय किया जाता है। सूर्य 22वें वर्ष में, चंद्र 24वें वर्ष में, मंगल 28वें वर्ष, बुध 32वें वर्ष में, गुरु 16वें वर्ष में, शुक्र 25वें वर्ष या विवाह के बाद, शनि 36वें वर्ष में, और अगर नवें भाव पर राहु-केतु का प्रभाव हो तो क्रमश: 42वें व 44वें वर्ष में भाग्योदय होता है।
प्रदोष व्रत गुरुवार, 9 नवंबर, 2017 दौड़ धर्म कर्म टिप्पणियाँ नहीं मिला View my complete profile
OK मखाना खाए और तनाव से मुक्त हो जाए ग्रहों की भूमिका अष्टकवर्ग से फलकथन एनिस्टन ने कहा, कोई नहीं जानता कि बंद दरवाजों के पीछे… पागलपन रोग और ज्योतिष : –
निजीकरण Close Time of birth… dopahar 12 baje color: #ffffff !important;
अब शुभांक ज्ञात करना सरल है। भविष्यवाणी करने वाले ज्योतिष की कई उप शाखाएं भी हैं जिनमें जैमिनी, प्रश्न, ताजिका, भृगु आदि शामिल हैं। सम्मेलन में शिरकत करने आए रेकी ग्रैंड मास्टर डॉ. भारत भूषण भारद्वाज ने छोटे-छोटे उपायों से रोगों से मुक्ति के उपाय बताए। कहा कि यदि किसी जातक का चंद्रमा खराब है तो उसको मासिक धर्म की परेशानी, एलर्जी व त्वचा संबंधी रोग होते हैं। ऐसे जातक चादी की चौकोर प्लेट बनाएं। इस ओम चंद्रायन नम: खुदवाएं। पूर्णमासी या सोमवार को गैस पर प्लेट को गर्म करें और इस गर्म प्लेट को दूध में ठंडा करें। यह दूध पी जाएं। ऐसा सात सोमवार या पूर्णमासी को करें। रोग ठीक हो जाएंगे। जिन जातकों को कमर व घुटने का दर्द है वे मंगलवार को चमेली का तेल और हनुमानजी को चढ़ने वाले सिंदूर को मिलाकर हनुमानजी को चोला चढ़ाएं। साथ हनुमाजी के सिर पर एक गुड़हल का फूल रखें। आरती करने के बाद बोलें ‘मेरे सब रोग दूर करो आपको रामजी की सौगंध’। दर्द हमेशा के लिए चला जाएगा।
Movie Masala हम जीवन में किसी भी अंधविश्वास पर विश्वास क्यों करते हैं, उपरोक्त प्रश्न का उत्तर उस दायरे में ही निहित है। लोग ज्योतिष में विश्वास करते हैं क्योंकि यह कई प्रकार की वांछनीय बातें प्रदान करता है जैसे जानकारी और भविष्य के बारे में आश्वासन, उनकी परेशानियों को हल करने, और अपने साथियों, परिवार और मित्रों के साथ अपने रिश्तों में सुधार करने के तरीके आदि।
मेष – मीन AM ध्यान रहे कि लग्न पूरे शरीर का प्रतिनिधि करता है जबकि चतुर्थ भाव शरीर में सीने की स्थिति का द्योतक है। वहीं छठा भाव रोग का प्रतिनिधि है। अब ये देखें कि लग्न, लग्नेश और लग्न के कारक की अवस्था मजबूत है अथवा वे पीड़ित अवस्था में हैं।
fate रोग व भय का माहौल बन सकता है। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। उत्तम मनोबल से समस्याओं…और पढ़ें 2 यदि हाथ की हथेली में स्फुरण हो तो द्रव्य लाभ होता है। बाईं हथेली में स्फुरण होने से धन आता है और दाईं हथेली में स्फुरण होने से धन जाता है।
नैतिक कहानियाँ अनुभव:   25 वर्ष श्री गणेश पूजा ज्‍योतिष // Add slideDown animation to Bootstrap dropdown when expanding.
मृत्यु और मरने व्यूस : 4015 मूल अंक ज्योतिष एक पूर्ण और चमत्कारिक शास्त्र है। जो अंकों के रहस्यों को बारीकी से अध्ययन कर भविष्य को प्रकाशमय करता है।  अंक ज्योतिष के नौ अंक नौ ग्रहों का प्रतिनिधित्व करते है। इस लेख के द्वारा में आपकों उन अंको से अवगत कराऊंगा जो की रहस्यमय होने के साथ-साथ खतरनाक भी हैं। इन अंकों के अंदर इतिहास की और भविष्य की अनेक दर्दनाक घटनायें  छुपी हुई  हैं-
Date 13/12/1993 ‘लियोपाम’ द्वारा पंचांग की जानकारी भी एक महत्वपूर्ण उपलबिध है। आपको भिन्न भिन्न प्रकारों के पंचांगों…और पढ़ें Yaa for meri govt job lag jaaigi
Saturn if exalted or with a own house planet in 10th house can bestow great success in life, provided Such Saturn has not lost strength in Varga charts like navamsh or dashamamsh.
Gemini Horoscope 2018 – ज्योतिष मिथुन राशि 2018 वार्षिक भविष्यवाणियां आजकल भारतीय ज्योतिष द्वारा भविष्यकाल के जानने के वास्ते जन्मकुंडली कुछ लोगों के पास नहीं हैं या पूर्ण नहीं हैं तथा जिनके पास हैं भी तो पूर्ण रूप से सही नहीं हैं जिससे उनका फलादेश पूर्ण तथा सही घटित नहीं होता। इस कारण प्रश्रकर्ता पूर्ण मानसिक रूप से संतुष्ट नहीं होता और न ही उसे इच्छित लाभ प्राप्त होता है मगर रमल (अरबी ज्योतिष) शास्त्र में जन्मकुंडली आदि की आवश्यकता नहीं होती है। रमल (अरबी ज्योतिष) शास्त्र का फलादेश इनके मुकाबले काफी सटीक प्राप्त होता है।
व्यूस : 6871 कुंडली के किसी भी भाव में बृहस्पति के साथ राहु का उपस्थित होना चांडाल योग का निर्माण करता है। इसे गुरु चांडाल योग भी कहते हैं। इस योग का सर्वाधिक प्रभाव शिक्षा और धन पर होता है। जिस व्यक्ति की कुंडली में चांडाल योग होता है वह शिक्षा के क्षेत्र में असफल होता है और कर्ज में डूबा रहता है। चांडाल योग का प्रभाव प्रकृति और पर्यावरण पर भी पड़ता है। चांडाल योग की निवृत्ति के लिए गुरुवार को पीली दालों का दान किसी जरूरतमंद को करें। पीली मिठाई का भोग गणेशजी को लगाएं। स्वयं संभव हो तो गुरुवार का व्रत करें। एक समय भोजन करें और भोजन में पहली वस्तु बेसन की उपयोग करें।
Conception Problems श्री मधुराष्टकम् – अधरं मधुरं वदनं मधुरं, नयनं मधुरं हसितं मधुरम् … #Suresh Shrimali contact us:- 0291-2799000, 2646625, 2432625 +91 9314728165(whatsapp) FACEBOOK Gurudev Suresh Shrimali – https://www.facebook.com/sureshshrimaliji Graho Ka khel – https://www.facebook.com/GrahonKaKhel Twitter Gurudev Suresh Shrimali – https://twitter.com/grahonkakhel Web – http://grahonkakhel.co.in/ Yogas in Astrology|| कुंडली में Laxmi Yoga _ Malavya yog (मालव्य योग) in Hindi ||Suresh Shrimali || मालव्य योग || मालव्य योग को यदि लक्ष्मी योगों का शिरोमणी कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं। मालव्य योग की प्रशंसा सभी ज्योतिष ग्रन्थों में की गई है। यह योग शुक्र से बनता है तथा शुक्र को लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। अतः लक्ष्मी योग के रूप मेें इसकी महता और भी बढ़ जाती है। मालव्य योग पंचमहापुरूष राजयोगों में से एक हैं। यदि लग्न से केन्द्र में वृष, तुला या मीन राशि में शुक्र विराजित हो तो मालव्य योग घटित होता है। पुष्पांजलि जी की कुण्डली में यही योग है। मालव्य योग में जन्म लेने वाले व्यक्ति भाग्यशाली, धैर्यवान, आकर्षित एवं ऐश्वर्य दायक जीवन जीने वाले, बहुत जिंदादिल, अच्छे से अच्छी गाड़ी, मकान व सभी सांसारिक सुखों को भोगने वाले सुगन्धित द्रव्यों के शौकिन, घूमने के शौकिन, कम प्रयासों के ही जीवन में सारे भोग इन्हें प्राप्त होते है। इस योग वाले लक्ष्मीवान से भी ज्यादा वैभवान होते है। इनके चेहरे पर विलक्षण, सौम्य आभा रहती है। सिनेपटल के राजकपूर की कुण्डली में भी तुला राशि में सुख, वैभव के भाव में विराजित शुक्र मालव्य योग घटित कर विराजित है। अद्वितीय प्रतिभा के धनी राजकपूर ने हिन्दी सिनेमा को नए आयाम दिए। उनके आकर्षक व चुम्बकीय व्यक्तित्व पर मालव्य योग का स्पष्ट प्रभाव दिखाई देता है। इसके अलावा भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, स्मिता पाटील, तब्बू आदि अनेक प्रसिद्ध हस्तियों की कुण्डली में यह योग घटित हो रहा है। || Yogas in Astrology || लक्ष्मी योग :-https://www.youtube.com/watch?v=bNxYbsItYTk सरस्वती योग:-https://www.youtube.com/watch?v=PaI6JUumPOw नाभि योग:-https://www.youtube.com/watch?v=T_YeHiqOimk लग्नाधि योग:-https://www.youtube.com/watch?v=aIt825oBoZk धेनु योग:-https://www.youtube.com/watch?v=ZRdW-C-ul04 चन्द्राधि योग:-https://www.youtube.com/watch?v=w-tS-TkGU7w कुलदीपक योग:-https://www.youtube.com/watch?v=jjxeAFIfslE गजकेसरी योग:-https://www.youtube.com/watch?v=06Zsx558o0w पदम योग:-https://www.youtube.com/watch?v=l0oJpXdVl2U महाभाग्य योग (पुरुष):-https://www.youtube.com/watch?v=gNoetBJG3ME महाभाग्य योग(स्त्री):-https://www.youtube.com/watch?v=7M7O93o7TQQ
उत्तराभाद्रपद नक्षत्र यंत्र जनवरी 2006 Planetary Remedies रत्न ज्योतिष योग कृतिका नक्षत्र यंत्र palmistry
5. राहु-केतु की दशा-अन्तर्दशा में इस प्रकार के रोग होने की अधिक आशंका होती है। बृहस्पति के उपाय से कैसे दूर होगा मोटापा? सलाह related story
जब आप कनेक्ट करते हैं तो कैंसर राशि चिन्ह सितारों जबकि इसकी छवि एक केकड़े के समान होती है कैंसर लैटिन शब्द का अर्थ है केकड़ा प्रतीक नदी और समुद्र के साथ जुड़ा हुआ है और कैंसर की कभी-बदलती भावनाओं को संकेत देता है।
DOB = 07-OCT-1991 / 04:35 AM 4 – आगामी गोचर या दशा कार्यक्षेत्र में तरक्की का संकेत दे रहा हैं या नहीं ? इसका भी परिक्षण कर लेना चाहिए ।
May 26, 2018 at 11:19 am धर्म-दर्शन मदद $(“#Hour”).val(currentDate.getHours() >= 13 ? (currentDate.getHours() – 12) : currentDate.getHours());
एक आदत सभी ग्रहो को ठीक कर देती है hindi astrology, jyotish kirpa whatsapp no 9653158161 Thanks for Watching Video Janam kundli consultation service Whatsapp no 9653158161 Charges apply My Video Production Gear : ¦ CAMERA USED IN THIS EPISODE : http://amzn.to/2gtL5fM ¦ TRIPOD USED IN THIS EPISODE : http://amzn.to/2vVngTX ¦ MICROPHONE USED IN THIS EPISODE : http://amzn.to/2ezrNZk ¦ PHANTOM POWER SUPPLY FOR AUDIO ENHANCEMENT : http://amzn.to/2eux0Or ¦ SOFT LIGHTING : http://amzn.to/2eugXAn नमस्कार दोस्तों अब आप हमारी App के साथ जुड़ सकते है और हमारी हर पोस्ट को वीडियो के जरिये देख सकते है ज्योतिष की जानकारी को App में सबसे पहले पा सकते है। App को डाउनलोड करने के लिए निचे दिए लिंक/फोटो पर क्लिक करे http://download1654.mediafireuserdownload.com/34xi42a8y0xg/z3tlg5gp1377uc5/Jyotish+kripa.apk Please Subscribe Our Channel https://www.youtube.com/c/jyotishkirpa Join us On Facebook https://www.facebook.com/jyotishkirpa/ Join us On Bolg http://jyotishkirpa.blogspot.in/ Join us On Twitter https://twitter.com/jyotishkirpa1
Om लोग समाज में यश की वृद्धि…. Submit Mercury कई बार लोगों के मन में यह बता रहती है कि नौकरी को छोड़कर कोई बिजनेस किया जाए इसके लिए ज्योतिष शास्त्र में नियम है कि जन्म कुंडली में दशम का उपनक्षत्र स्वामी बुद्ध अथवा द्विस्वभाव राशि से संबंधित होने के साथ-साथ सप्तम भाव का कार्य हो तो बिज़नेस की संभावना बढ़ जाती है.
Astrology And Zodiac Signs Zodiac Constellations Zodiac Jewelry

Legal | Sitemap

Write a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.