वसंत पंचमी time 01:27 AM क्यूॅ कराये कुंभ या अर्क विवाह…………….. जन्म कुंडली रिपोर्ट यदि लग्न या चंद्र से सप्तम भाव में नवमेश या राशि स्वामी या अन्य कारक ग्रह हों या उस पर उनकी दृष्टि हो तो शादी से सुख प्राप्त होगा व जीवनसाथी भाग्यशाली होगा। यदि द्वितीयेश, सप्तमेश व द्वादशेश केंद्र या त्रिकोण में हों व बृहस्पति से दृष्ट हों, तो सुखमय वैवाहिक जीवन रहेगा। यदि सप्तमेश व शुक्र समराशि में हों, सातवां भाव भी सम राशि हो व पंचमेश और सप्तमेश सूर्य के निकट न हों या अन्य प्रकार से कमजोर न हों, तो सुयोग्य संतति प्राप्त होती है। यदि गुरु सप्तम भाव में हो, तो जातक जीवनसाथी से बहुत प्रेम करता है। सप्तमेश यदि व्यय भाव में हो, तो पहली जीवनसाथी के होते हुए भी जातक दूसरा संबंध बनाता है। इस योग के कारण पति या पत्नी की मृत्यु भी हो सकती है। यदि सप्तमेश पंचम या पंचमेश सप्तम भाव में हो, तो जातक शादी से संतुष्ट नहीं रहता। स्त्री की कुंडली में सप्तम भाव में चंद्र व शनि के स्थित होने पर दूसरी शादी की संभावना रहती है जबकि पुरुष की कुंडली में ऐसा योग होने पर शादी या संतति नहीं होती है। 
कैंसर रोग के जिवाणुओ को भी ख़त्म कर सकता है हल्दी का सेवन डिअर मंजीत, time? क्रिकेटर रविंद्र जडेजा ने अपनी बायोपिक को लेकर किया बड़ा खुलासा, कहा ये एक्टर ही करेगा मेरा किरदार
माई नेम इज खान की त्रासदी अमरीका में भी अचानक नहीं आई एशिया रोड रेसिंग चैम्पियनशिप
Jupiter Pooja, Guru Puja जिस जातक की कुंडली में पितृदोष होता है उसे धन अभाव से लेकर मानसिक क्लेश तक का सामना करना पड़ता है। $(“#IsCustomLocation”).val(latitude == undefined || longitude == undefined || $(“#LatitudeDegree”).val() != latitude[0] || $(“#LatitudeMinute”).val() != latitude[1] || $(“#LatitudeSecond”).val() != latitude[2] || $(“#LatitudeDirection”).val() != latitude[3]
कृपया अपनी योनि में भूजल की जड़ें मत डालें – कभी January 9, 2018 at 5:13 pm
ज्योतिष कुंभ राशि वालों आज आपको जीवनसाथी से गिफ्ट मिलने का योग है। वर्कप्लेस पर सावधानी बरतने की जरूरत है।……Read more
August 31, 2017 at 6:11 am जन्म कुण्डली नहीं है तो करें यह महाउपाय और अपना जीवन सुखमय बनाएं –
दरिया में नहाते देखना है अच्छा for (var i = 0; i < ca.length; i++) { व्यूस : 4853 $(".navbar-collapse").removeClass("mobilemenu"); 59 शरीर पर तिल होने के प्रभाव जन्म तिथि (DD/MM/YYYY) सुखी वैवाहिक जीवन के ज्योतिषीय सूत्र Explore More From Howcast VIDEO : बंदरों के झुंड ने किया ऐसा काम, हर कोई कर रहा तारीफ Kesari TV 3 months ago मेष राशि के सबंध जानिये आज के सवाल जवाब 27/05/2015 प्रख्यात Pt.P.S ... Português (Brasil) app_com_close_Home_slideup_kundali_match_ban_5();   Paid Astrology 04 लोग ज्योतिष में विश्वास करते हैं, क्योंकि यह बस मजेदार है। राशिचक्र तिथि, राशियाँ, थोड़ा भाग्य बताने के उपाय और बहुत कुछ। हम अपने जीवन के लगभग सभी पहलुओं को राशियों से संबद्ध कर सकते हैं और हम देखेंगे कि वे सही मायने में व्यावहारिक और ठीक हैं। हमारी राशिफल विलक्ष्ण होती है और वे हमारी ताकत, कमजोरी खोजने में मदद के साथ ही हमारे प्राकृतिक गुणों को भी प्रकट कर सकती है। अप्रैल 2016 ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, कुंडली में स्थित जिन ग्रहों के कारण कैंसर होने की संभावना बन रही है, उन ग्रहों से संबंधित ज्योतिषिय उपाय करें व उन ग्रहों के जप पूर्ण विधि-विधान से करें। उपरोक्त उपाय करने से कैंसर होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं अथवा कैंसर होने पर भी इसका समुचित उपचार हो जाता है। Next Next post: संगठनात्मक चुनाव को लेकर एपीआरओ ने कांग्रेसजनों की बैठक ली कुंडली में कैंसर का कारण और उपाय || Yogas in Astrology || ज्योतिष में कैंसर के योग Previous How the Moon Affects the 12 Zodiac Houses नई दिल्ली, 26 नवंबर 2015, अपडेटेड 23:50 IST गैजेट्स कुण्डली $("#linklistbtn").toggle(function () { इस दुनिया में अमीर बनने की इच्छा तो सबकी होती है, पर कोई एक इंसान ही ऐसा होता है, जिसकी ... Copyright © 2018 Heraldspot. नौकरी भारतीय ज्‍योतिष ज्‍योतिष कैलेंडर वास्‍तु करधनी रेखा का आरंभ अर्धवृत्त आकार में कनिष्ठा और अनामिका उंगली के मध्य में और अंत मध्यमा अंगुली और तर्जनी पर होता है। प्रश्न-कुंडली क्या है और इसका क्या महत्व है? thank u sir भाषा Language How Venus & Mars Affect Your Romances How Jupiter Affects Your Luck योग हैं, पर मेहनत बहुत अधिक लगेगी क्यूंकि competition के भाव का कारक दशम भाव में नीच का है| मेरा चंद्रहास यन्त्र पहनो, सफलता में मदद मिलेगी| Place Hisar haryana 3/8इस ग्रह की चाल देती है मृत्यु का संकेत यंत्रों की कार्यप्रणाली dainikbhaskar.com 29-05-2018 इन वास्तु टिप्स से खत्म कर सकते हैं सास-बहू के झगड़े }, 200); वायु तत्व की राशियाँ हस्त नक्षत्र यंत्र It looks like nothing was found at this location. Maybe try one of the links below or a search? मुलाकात वज्रासन : वीर्य की गति उर्ध्व होने से शरीर वज्र जैसा बनता है कन्या EVENTS संस्कृत Nadi Dosh Nivaran Yantra इस मूलांक के लोगों को चुनने चाहिए ये क्षेत्र source: function (request, response) { जन्म कुंडली नहीं है तो करें ये महाउपाय - April 29, 2018 व्यूस : 33424 17 Jul, 2018 साइन अप / Delete ट्राइन - जब एक ग्रह दूसरे के साथ 120 डिग्री के कोण पर हों, ऐसी स्थिति में कार्यों की आसान उपलब्धि की सुविधा होती है। See More Upay $("#Year").val(new Date().getFullYear()); पुराण धनु - षष्टम भाव तथा षष्ठेश पीडि़त या क्रूर ग्रह के नक्षत्र में स्थित हो। Click here for Vilamba (Vilambi) rashiphal in Telugu (తెలుగు ఉగాది(విలంబ(విలంబి) రాశి ఫలములు) 2018 -19. Leave a reply भविष्य देखे केचप का एक संक्षिप्त इतिहास Got it प्रतिगामी ग्रह  कुंडली Sir muje govt job h ya nhi… हिंदीमे आप् का सविवरण जनमपत्री (जनमकुन्डली) के लिए यहा क्लिक करे ⇒ मुलाकात ⇐ Thomson Press Aap plz dekh ke bataye ki 12th house mein inki yuti kya result deti hai or isse venus/ mercury ka parbhav kaisa rahega. व्यूस : 3464 BUSINESS गैजेट्स January 5, 2018 at 1:45 pm मिथुन+कन्या 3 + 6 = 9 जुर्म Betiah var sign = decimalDegree < 0 ? -1 : 1; बारहवें घर में मांगलिक दोष Jitender sharma says Consultation with Top Astrologers गुड़गांव षष्टम भाव तथा षष्ठेश पीडि़त या क्रूर ग्रह के नक्षत्र में स्थित हो। रोचक-रोमांचक Pt.p.s.tripathi जन्म कुंडली में जब एक भाव पर ही अधिकतर पाप ग्रहों का प्रभाव होता है, विशेषकर शनि, राहु व मंगल से तब उस संबंधित भाव वाले अंग में कैंसर रोग के होने की संभावना अधिक होती है. कैंसर रोग जिस दशा में होता है, उसके बाद आने वाली दशाओं का आंकलन किया जाना चाहिए. यदि यह दशाएँ शुभ ग्रहों की है या अनुकूल ग्रह की है या योगकारक ग्रह की दशा आती है तब रोग का पता आरंभ में ही चल जाता है और उपचार भी हो जाता है। उदाहरणार्थ- यहाँ हम किसी अ का शुभांक निकालते हैं। मान लीजिए अ का जन्म 11-2-1942 को हुआ। अतः Astrology ज्योतिष The Basics of Numerology FOLLOW FOLLOW US अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न गणित के कारक ग्रह बुध का संबंध यदि जातक के लग्न, लग्नेश या लग्न नक्षत्र से होता हैं तो वह गणित में सफल होता हैं । यदि लग्न, लग्नेश या बुध बली एवं शुभ दृष्ट हो, तो उसके गणित में पारंगत होने की संभावना बढ़ जाती हैं । शनि एवं मंगल किसी भी प्रकार से संबंध बनाएं तो जातक मशीनरी कार्य में दक्ष होता हैं । इसके अतिरिक्त मंगल और राहु की युति, दशमस्थ बुध एवं सूर्य पर बली मंगली की दृष्टि, बली शनि एवं राहु का संबन्ध, चन्द्र व बुध का संबंध, दशमस्थ राहु एवं षष्ठस्थ यूरेनस आदि योग तकनीकी शिक्षा के कारक होते हैं । June 16, 2018 at 7:27 am April 1, 2018 at 11:57 am Number 2 in Numerology काम का बोझ आज कुछ तनाव और खीज की वजह बन सकता है. यात्रा आपको थकान और तनाव देगी, लेकिन आर्थिक तौर पर फ़ायदेमंद साबित होगी. जिनसे आप प्यार करते हैं, उनसे आज सारी ग़लतफ़हमी दूर हो सकती है. एक प्यारी-सी मुस्कुराहट से अपने प्रेमी का दिन रोशन करें. यह दूसरे देशों में व्यावसायिक सम्पर्क बनाने का बेहतरीन समय है. दूसरों की राय को ग़ौर से सुनें, अगर आप आज वाक़ई फ़ायदा चाहते हैं तो. अगर आप अपने जीवनसाथी से स्नेह की आशा रखते हैं, तो यह दिन आपकी आशाओं को पूरा कर सकता है. बिहार: मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: समाज कल्याण विभाग के सहायक निदेशक समेत 6 अधिकारी सस्पेंड जन्म स्थान // document.getElementById("image").src = imgSrc; Sandeep says अंकशास्त्र में मुख्य रूप से नामांक Career Astrology में दशम भाव में ग्रहों की स्थिति| एग्रीकल्चर Dear Ashutosh, YYYY अंकशास्त्र में मुख्य रूप से नामांक पृथ्वी राशि के लोग ग्रह पर "धरती" से जुड़े हुए होते हैं और वे हमें व्यवहारिक बनाते हैं। वे ज्यादातर रूढ़िवादी और यथार्थवादी होते हैं, लेकिन साथ ही वे बहुत भावुक भी हो सकते हैं। उन्हें विलासिता और भौतिक वस्तुओं से प्यार होता है। वे व्यावहारिक, वफादार और स्थिर होते हैं और वे कठिन समय में अपने लोगों का पूरा साथ देते हैं। पृथ्वी राशियाँ हैं: वृष, कन्या और मकर। सौंदर्य क्लोजेट से देखें: एक बोतल पर संदेश क्या यह अच्छा है या बुरा? क्या आप खुश हैं या दुखी हैं? How the Saturn Return Affects You चालीसा संग्रह-Chalisa Sangrah DOB: 17/06/1988 ज्योतिष चार्ट की कई परतों को एकीकृत करने में सक्षम होने और अपनी समझ के साथ उन्हें एक साथ बुनाई करने के लिए काफी अलग कौशल है! यह वह जगह है जहां समय, अध्ययन, ध्यान और चिंतन आवश्यक हैं। इस शिल्प को सम्मानित करने के लिए अभ्यास आवश्यक है! जो लोग अपने ज्योतिष कौशल का अभ्यास करना और बढ़ाना चाहते हैं, उनके लिए आपको अपने अध्ययन में मेहनती होने की आवश्यकता होगी। किताबें पढ़ना, कक्षाओं का अध्ययन करना और चार्ट का अध्ययन करने में समय व्यतीत करना आवश्यक है। राशि चक्र के संकेत | राशि चक्र नौकरियां राशि चक्र के संकेत | ज्योतिष और राशि चक्र राशि चक्र के संकेत | राशि चक्र प्रश्न

Legal | Sitemap

Write a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.